In the common psychosocial practice, it has been found that persons with intellectual and developmental disabilities (IDDs) are often perceived as either asexual or impotent or as sexually ignorant or ignorant about masculine or sexual relations, and sexuality education is considered unnecessary or even harmful. Society at large thinks that they will begin to have sexual problem behaviours once they receive sex education.
Manovikas Charitable Society is prioritising the need for sexual self-advocacy for individuals with IDD. We look forward to implementing the UNCRPD, the convention that advocates for the human rights of individuals with IDD.

Research suggests that persons with disabilities are most affected by sexual violence and may be more vulnerable to HIV infection.

sexual violence

Whether young people living with mental, physical or emotional disabilities, all people are sexual beings and all have an equal right to enjoy their sexuality in a healthy manner, including a pleasurable and safe sexual experience. Sexual rights mean providing a pleasurable environment, free from conflict and violence, and access to quality sexuality education services.

Their knowledge of anatomy and development, sexuality, contraception, and STIs (including HIV), should be on par with their peers. They should be included in sexuality programs in their schools and communities.

There is a need for comprehensive sexuality education for persons with intellectual and developmental disabilities (IDDs) with knowledge of differences in sexual development and information such as lesbian, bisexual, transgender, and Mullerian anomalies.

The sexual self-advocacy programme emphasises empowerment and gender equality and tends to engage persons with IDD to question prevailing norms through critical thinking and encourage adolescents to adopt more egalitarian attitudes and relationships, resulting in better sexual and health outcomes.

The Sexual Self Advocacy program emphasizes empowerment and gender equality and has a critical focus on the inclusion of individuals with IDD. Encourages adolescents to understand more egalitarian attitudes and relationships, which can result in better gender understanding and better health for persons with intellectual and developmental disabilities.

बौद्धिक और विकासात्मक विकलांग दिव्यांगजनों (आईडीडी) के लिए लैंगिक स्व-वकालत कार्यक्रम

सामान्य मनोसामाजिक व्यवहार में, यह पाया गया है कि बौद्धिक और विकासात्मक दिव्यांगजन (आईडीडी) को अक्सर या तो अलैंगिक या नपुंसक या यौन रूप से अज्ञानी या स्रीपुस्र्ष संबंध के विषय में अनभिज्ञ माना जाता है, और इनके लिए यौन शिक्षा को अनावश्यक या हानिकारक भी माना जाता है। बड़े पैमाने पर समाज सोचता है कि लैंगिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद वे यौन समस्या व्यवहार करना शुरू करने लगेंगे। 

मनोविकास चैरिटेबल सोसाइटी आईडीडी वाले व्यक्तियों के लैंगिक अधिकार के लिए स्व-वकालत की आवश्यकता को प्राथमिकता दे रही है। हम यूएनसीआरपीडी को लागू करने के लिए तत्पर हैं, यह कन्वेंशन आईडीडी वाले व्यक्तियों के मानवाधिकारों का वकालत करता है।

शोध से पता चलता है कि दिव्यांगजन यौन हिंसा से सबसे ज़्यादा प्रभावित होते हैं और एचआईवी संक्रमण के प्रति अधिक संवेदनशील हो सकते हैं।

चाहे मानसिक, शारीरिक या भावनात्मक अक्षमताओं के साथ जीने वाले युवा हों, सभी लोग लैंगिक प्राणी हैं और सभी को एक सुखद और सुरक्षित यौन अनुभव के साथ साथ स्वस्थ तरीके से अपनी लैंगिकता का आनंद लेने का समान अधिकार है। लैंगिक/यौन अधिकारों का अर्थ है एक सुखद वातावरण प्रदान करना, जो संघर्ष और हिंसा से मुक्त हो, और गुणवत्तापूर्ण लैंगिक/यौन  शिक्षा सेवाओं को उन तक पहुंचना।

शरीर रचना और विकास, लैंगिकता या कामुकता, गर्भनिरोधक और एसटीआई (एचआईवी सहित) विषयों के बारे में आईडीडी वाले व्यक्तियों का ज्ञान अपने आम लोगों के बराबर या यहाँ तक की ज़्यादा ही होना चाहिए। उन्हें अपने स्कूलों और समुदायों में लैंगिकता या यौन जागरूकता के कार्यक्रमों में शामिल किया जाना चाहिए।

बौद्धिक और विकासात्मक दिव्यांगजनों (आईडीडी) के लिए व्यापक लैंगिक शिक्षा की ज़रूरत है जिसमें यौन विकास में भिन्नता का ज्ञान हो और समलैंगिक, उभयलिंगी, ट्रांसजेंडर, मुलेरियन विसंगतियों जैसे जानकारियों को भी बताना  चाहिए।

सेक्शुअल सेल्फ एडवोकेसी (लैंगिक स्व-समर्थन) कार्यक्रम सशक्तिकरण और लैंगिक समानता पर जोर देता है और आईडीडी वाले व्यक्तियों को शामिल करने पर महत्वपूर्ण ध्यान केंद्रित करता है। किशोरों को अधिक समतावादी दृष्टिकोण और संबंधों को समझने के लिए प्रोत्साहित करता है, जिसके परिणामस्वरूप बौद्धिक और विकासात्मक विकलांग व्यक्तियों के लिए बेहतर लिंग समझ और बेहतर स्वास्थ्य हो सकता है।

sexual development

Achievements disclosed

The National Institute of Open Schooling (NIOS) has announced the results for the secondary class, and this year, every student has successfully passed. This unprecedented achievement has brought immense joy to everyone involved in the educational journey. At Manovikas, the

Read More »

Resource Room

In these day’s resource room session, our diploma trainees led a dynamic and engaging class with our students. The trainees began by welcoming everyone warmly, creating a comfortable and inclusive atmosphere. They then posed a crucial question to the students:

Read More »